ajabde and maharana pratap

महाराणा के जीवन को सबसे बड़ा समर्थन उनकी पत्नी , अजबदे से मिला। महाराणा कि उम्र १७ वर्ष थी , और अजबदे १५ वर्ष कि थी उस समय। उनकी शादी होने से पहले वे एक दूसरे के खास मित्र थे। प्रताप उनसे अपने हर इछाये , रणनीतिया , सपने , और भय बाटते थे. और अजबदे उनको आँखे मूंद कर विश्वास एव समर्थन करती थी चाहे वो सपना उनकी उम्र से काफी परे ही क्यों न हो। उनकी यह दोस्ती प्यार में जल्द ही बदल गयी , अजबदे मेवाड़ एवम प्रताप कि विश्वसनीय और कर्त्तव्यनिष्ठ महारानी बनी। वे अपने कर्तव्यो कि समझ रखती थी एव उनको पूर्ण भी करती थी। क्योकि राणा जी कि ज़िन्दगी राज महल में नहीं थी , वे मेवाड़ के राजा कम पर रक्षक ज्यादा थे। राणा अमर सिंह रानी अजबदे और महाराणा प्रताप के ही वीर पुत्र थे। जो एक भावी राजा थे। -

tags:

  • maharana pratap wife
  • maharana pratap wife name
  • maharani ajabde
  • wife of maharana pratap
  • wives of maharana pratap
  • maharana pratap wives
  • maharana pratap and ajabde
  • ajabde history
  • ajabde
  • ajabde in maharana pratap

5 comments

  1. Shraddha says:

    Maharana pratap was a man of wonder who always fought against the cruelty and injustice of intruders who are appearing to us nowadays as well

Leave a Reply

Current day month ye@r *